राजनैतिक पार्टियाँ जनहितों को ध्यान में रखकर नेता नहीं चुनती, यह देखकर चुनती हैं कि किस नेता से जनता डरती है, किसके पास गुंडे-मवालियों की सेना अधिक है और कौन सा नेता पार्टी को अधिक से अधिक आर्थिक लाभ पहुंचाता है | फिर चाहे वह…

शब्दों के अर्थ और परिभाषाएं बदल चुके हैं अब | अब भक्त का अर्थ भक्ति नहीं, अंधभक्ति है | अब देशभक्ति का अर्थ देश के प्रति भक्ति नहीं, मोदी और भाजपा के प्रति भक्ति है | अब देशसेवा का मतलब देश की सेवा नहीं, पूंजीपतियों,…

मोदी ने कहा था कि उसके राज में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ और आतंकियों ने हमला कर दिया | हमला भी ऐसा कि बरसों बाद इतना बड़ा हमला हुआ है | 350 किलो विस्फोटक और 42 जवान शहीद | आज हर कोई इस…

बचपन में जब किसी से मेरा झगड़ा हो जाया करता था, और गलती मेरी न भी होती तब भी मैं ही पिटता था | ऐसी ही एक घटना बताता हूँ आज: मुझे ही नहीं मेरे सभी भाई बहनों को पुस्तकें पढ़ने का बहुत ही बुरा…

Image Source: Father and Son

भक्ति दौलत की मेहनत की लूट सबसे ख़तरनाक नहीं होतीपुलिस की मार सबसे ख़तरनाक नहीं होतीगद्दारी, लोभ की मुट्ठीसबसे ख़तरनाक नहीं होती बैठे बिठाए पकड़े जाना बुरा तो हैसहमी सी चुप्पी में जकड़े जाना बुरा तो हैपर सबसे ख़तरनाक नहीं होती सबसे ख़तरनाक होता हैमुर्दा…

Image Source: Naga Sadhu

मेरी व्यक्तिगत धारणा है कि समाज जिसे न्याय समझता है वह न्याय नहीं है | धर्म और न्याय दोनों के ही वास्तविक परिभाषाओं को तिरोहित करके समाज ने नई ही परिभाषाएं गढ़ ली हैं इनकी | उदाहरण के लिए सम्प्रदायों, परम्पराओं, मान्यताओं को धर्म कहा…

जब तक राम-मंदिर नहीं बन जाता, यह देश इसी प्रकार गरीबी में जियेगा क्योंकि राम जी बहुत नाराज हैं मंदिर नहीं बनने से

Image Source: Poverty In India

सनातनी या धर्म निरपेक्ष होने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि साम्प्रदायिकता को यहाँ स्वीकार नहीं किया जायेगा | जो भी साम्प्रदायिकता फैलाएगा, उसके विरुद्ध आवश्यक कदम उठाये जायेंगे

देश को साम्प्रदायिकता की आग में झोंकने वाले, दिमाग से पैदल, विकृत मानसिकता के लोगों की हार हुई

Landmafia

भारतवर्ष स्वयं एक पार्टी है और हर भारतीय सदस्य है उसका । संसद भवन केन्दीय कार्यालय है भारतीयों के प्रतिनिधियों का ।

असामाजिक तत्त्व व नेताओं के पालतू गुंडे-मवालियों के संगठन में वही एकता होती है, जो लकड़बग्घों, सियारों, भेड़ियों, जंगली कुत्तों में होती है

वे लोग भी राजनीती ही कर रहे होते हैं जो निष्क्रिय होते हैं या यह कहते हैं कि हमें राजनीती से कोई लेना देना नहीं