शब्दों के अर्थ और परिभाषाएं बदल चुके हैं अब | अब भक्त का अर्थ भक्ति नहीं, अंधभक्ति है | अब देशभक्ति का अर्थ देश के प्रति भक्ति नहीं, मोदी और भाजपा के प्रति भक्ति है | अब देशसेवा का मतलब देश की सेवा नहीं, पूंजीपतियों,…

मोदी ने कहा था कि उसके राज में एक भी आतंकी हमला नहीं हुआ और आतंकियों ने हमला कर दिया | हमला भी ऐसा कि बरसों बाद इतना बड़ा हमला हुआ है | 350 किलो विस्फोटक और 42 जवान शहीद | आज हर कोई इस…

अपने इतिहास के सर्वोच्च नायकों के साथ हमने कैसा व्यवहार किया है उसकी एक बानगी देखिये! 🙌 झांसी के अंतिम संघर्ष में महारानी लक्ष्मीबाई की पीठ पर बंधा उनका बेटा दामोदर राव (असली नाम आनंद राव) सबको याद है. रानी की चिता जल जाने के…

कई बरस पहले एक आर्यसमाजी उपदेशक व प्रचारक के घर ठहरना हुआ मेरा | बहुत ही आदर सम्मान के साथ उन्होंने मेरे ठहरने की व्यवस्था की | लेकिन जब देर रात मुझे अचानक शौच जाने की आवश्यकता पड़ी तो, उन्होंने घर में बने शौचालय की…

जब तक राम-मंदिर नहीं बन जाता, यह देश इसी प्रकार गरीबी में जियेगा क्योंकि राम जी बहुत नाराज हैं मंदिर नहीं बनने से

Image Source: Poverty In India

आदिवासी यौन कुंठित नहीं होते, पशु-पक्षी यौन कुंठित नहीं होते, यहाँ तक कि कीट पतंगे भी यौन कुंठित नहीं होते, केवल नैतिकता, सभ्यता, धार्मिकता की दुहाई देने वाला सभ्य कहलाने वाला समाज ही यौन कुंठित होता है | और यौन कुंठित समाज अप्राकृतिक यौन संबंधों का कारक है

बरसाती राष्ट्रभक्ति का दौर शुरू हुए लगभग तीनवर्ष बीत चुके हैं | इस दौर में हमने कई दोगले राष्ट्रभक्त और उनकी दोगली राष्ट्रभक्ति देखी | हमने देखा कि मिडिया में जो लोग बैठे है, जिनको आज के युवावर्ग विद्वान, समझदार और सुलझा हुआ समझती थी,…

भारत में जितने भी त्यौहार हैं, वे सभी किताबों पर आधारित नहीं हैं, कुछ प्राकृतिक वातावरण पर आधारित हैं | जैसे; दीवाली, वसंतोत्सव, होली, रक्षाबंधन, तीज, श्रावणी… आदि | मुझे याद है बचपन में जब हम गाँव की रामलीला देखने जाया करते थे, तो कम्बल…

मानवों ने जहाँ जहाँ अपनी विकासशील आधुनिक मानसिकता के कदम नहीं रखे, वह जगह आज भी सुंदर व मनमोहक हैं | लेकिन जहाँ-जहाँ मानवों की भीड़ पहुँच जाती है वह विकास व आधुनिकता की वेदी पर स्वाहा हो जाता है | अभी भी भारत में…

क्या आपने कभी गौर किया है कि भारत में सभी हवाई जहाजों के विंग्स और बॉडी पर VT से शुरू होने वाला नाम प्रमुखता से लिखा होता है. असम में भारत के हर हवाई जहाज का नाम VT से ही शुरू होता है. लेकिन ये…

जरा गिरेबान पर झाँक लो एक बार पता चल जाएगा कि अपनी ही उन धार्मिक सिद्धांतों, गुरुओं के दिखाए आदर्शों के विरुद्ध हो गये हो सभी, जिनके नाम पर इतना इतरा रहे हो | याकूब दोषी था या निर्दोष, यह तो अदालत ही जानती है…

एक अकेला चंदू पूरे गाँव के लिए कुआँ खोद कर पानी निकाल सकता है, लेकिन हम सवा सौ करोड़ लोग मुट्ठी भर नेताओं के भरोसे बैठे हैं !!!Posted by विशुद्ध चैतन्य on Tuesday, April 29, 2014 4