बहुत ही दुःख की बात है कि भारत आज भी अंग्रेजों का गुलाम है | आज भी अंग्रेजी से मुक्त नहीं हो पाया | आज भी न्याय व्यवस्था…Posted by विशुद्ध भारतीय on Tuesday, April 29, 2014 3

कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत में एक से एक शानदार पहाड़ हैं, पहाड़ों की श्रृंखलाएं हैं और सुंदर एवं मनोरम घाटियां हैं।Posted by Webdunia Hindi on Sunday, April 26, 2015 3

उद्योगपति श्री रतन टाटा   यदि जीवन में सफल होना है तो सफल व्यक्ति की तरह काम करना चाहिए और उसके बताए रास्ते पर चलना चाहिए पर रतन टाटा ऐसा नहीं मानते हैं उनका कहना है कि ‘प्रत्येक व्यक्ति में कुछ विशेष गुण एवं कुछ विशेष…

“….केवल प्रवचन तक ही सीमित है व्यवहारिक कहीं नहीं | यदि व्यवहारिक होते, तो ये धार्मिक, सभ्य, पढ़े-लिखे, अंग्रेजी बोलने वाली भेड़ें, नेताओं और पूंजीपतियों के दुमछल्ले न होते | ये नेताओं और मंदिरों को दान देने के स्थान पर आपस में सहयोगी हो गये…

अहमदाबाद के एक मुहल्ले में गली के कुत्ते की मौत होने पर पूरा मुहल्ला शोक में डूब गया। इस कुत्ते का नाम सोनू था।  18 साल पुराने कुत्ते की मौत से शोक में डूबे मुहल्ले वालों ने पूरे विध-विधान के साथ अंतिम संस्कार किया। गली…

अक्सर हम सभी दूसरों की नजर में अच्छे बनने के चक्कर वह नहीं हो पाते जो होना चाहते हैं | मुझे याद है जब अन्नुमालिक का इंटरव्यू पहली बार देखा था, तब मेरे पिताजी के मुँह से निकला था कि यह मैं मैं बहुत करता…

कल डीएवी पब्लिक स्कूल की शाखा खुलवाने के लिए बात करने एक पंडित जी आये | वे बोले कि आपके पास तो इतनी जमीन पड़ी हुई है, इसमें तो कई स्कूल खुल सकते हैं | डीएवीपी स्कूल वाले काफी समय से मुझे कह रहे थे…

२१ मार्च, १८५७ को बैरकपुर छावनी (बंगाल) के सैनिकों ने विद्रोह कर दिया | अंग्रेज सार्जेंट ह्युम और लेफ्टिनेंट बॉब को भारत माता के चरणों में बलि देने (क़त्ल करने) के जुर्म में ८ अप्रैल, १८५७ को भारत माता के वीर सपूत मंगल पाण्डेय को…