सभी दड़बों के ठेकेदार दावा करते हैं कि उनके दड़बे में कोई भेदभाव नहीं होता

The Hen's House

दुनिया में जितने भी दड़बे हैं, सभी के ठेकेदार और मालिक यही दावा करते हैं कि उनके दड़बे को ईश्वर ने बनाया है, उनके दड़बे में केवल ईश्वरीय कानून ही लागू होता है, बाकी सभी दडबों में मानव निर्मित कानून लागू होता है | सभी दड़बों के ठेकेदार दावा करते हैं कि उनके दड़बे में कोई भेदभाव नहीं होता, उनके दड़बे में कोई जात-पात, छुआ-छूत नहीं होता, सभी इन्साफ मिलता है क्योंकि उनका कानून ईश्वर ने बनाया है | बहुत से दड़बे दावा करते हैं हमारे दड़बे में सुख और शान्ति है बाकी सभी दडबों में उपद्रव है |


मेरा मानना है कि हम सभी ईश्वर की संतान है और सभी को ईश्वर ने विवेक दिया है | इसलिए कोई भी किसी भी दड़बे में जाने के लिए स्वतंत्र है | बस यह निश्चित कर लीजिये कि जो प्रचार किया जा रहा है, वह सही है या नहीं | पता कर लीजिये कि उस दड़बे में कोई शोषित, पीड़ित तो नहीं है | कुछ दिन रह कर देख लीजिये उन दडबों में कि किसी गरीब को अपनी पत्नी, माँ या बच्चे की लाश लेकर भटकना तो नहीं पड़ता | पता कर लीजिये कि उस दड़बे के निवासियों को बलि का बकरा बनाकर तो नहीं रखा गया | सुनिश्चित कर लीजिये कि उस दड़बे के निवासी अपने पड़ोसी के सुख-दुःख में निःस्वार्थ काम आते हैं या नहीं | देख लीजिये कि कहीं उस दड़बे में कोई भूखा नंगा, बीमार अपनी मौत का इंतज़ार तो नहीं कर रहा | देख लीजिये कि उस दड़बे का ठेकेदार अपने दड़बे के निवासियों की सुख-समृद्धि व सुरक्षा का पूरा ध्यान रखता है या नहीं |

READ  पहली सीढ़ी पर खड़े हुए संन्यासी को, फकीर को अंतिम अवस्था का संन्यासी भ्रष्ट मालूम पड़ सकता है

मैंने अपने अनुभवों में पाया है कि किसी भी दड़बे के ठेकेदार को जनसँख्या, वोट और कमाई से अधिक किसी चीज में कोई रूचि नहीं होती | इसलिए आये दिन दस-दस बच्चे पैदा करो के बयान प्रसारित किये जाते हैं | मैंने अपने अनुभवों से पाया है कि किसी भी दड़बे के ठेकेदार को अपने ही दड़बे के निवासियों की सुरक्षा, समृद्धि व सुख-शान्ति में कोई रूचि नहीं है, बल्कि यदि उनकी भूमि कोई भूमाफिया लूट रहा है तो वे आँखे बंद किये ईश्वर की साधना में लीन रहते हैं और कहते हैं पूर्वजन्मों का फल है, भुगतना ही पड़ेगा | उनके अपने ही दड़बे के लोगों पर पूंजीपति अत्याचार करते हैं सरकारी या गैर सरकारी गुंडों की सहायता से, तो भी वे आँखें मूंदे पड़े रहते हैं |

तो यदि ऐसा कोई दृश्य आपको किसी दड़बे में देखने मिल जाए तो उससे पीछे हट जाएँ क्योंकि कल आप भी अकेले पड़ जायेंगे उस भीड़ में | इससे बेहतर है कि अपना स्वयं का मार्ग खोजें, अकेले ही जीने की आदत डालें क्योंकि बुरे वक्त में धर्म का कोई भी ठेकेदार आपकी सहायता को नहीं आएगा | उनकी रूचि आपमें तभी तक रहेगी जब तक चुनाव होने वाले हों या आपसे उनको चढ़ावा मिल रहा है | उसके बाद वे आपको पहचाने से भी इनकार कर देंगे | हाँ कुछ साथी आपको अवश्य मिल जायेंगे जो आपकी सहायता करेंगे जब कोई साथ देने वाला न मिले, ऐसे लोग आवश्यक नहीं कि उसी दड़बे के हों, किसी और दड़बे से भी हो सकते हैं | इसलिए बेहतर है दडबों से बाहर ही रहें और सनातनी बनकर रहें | सभी के सहयोग के लिए तत्पर रहें और सभी के लिए अपने द्वारा खुले रखें | भेदभाव से मुक्त रहें और सदैव प्रसन्नचित रहें | ~विशुद्ध चैतन्य

READ  ब्लॉक करने की आवश्यकता किसी भी संत-महंत या ब्रम्हज्ञानी को नहीं पड़ती लेकिन मुझे पड़ती है

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of