आज हमारा धर्म भी उन्नत फिल्टर्ड व ब्रांडेड हो गया है

बचपन में जब हमें पता नहीं था कि हिन्दू मुस्लिम आपस में शत्रु होते हैं, तब हम सब साथ साथ खेलते और एक दूसरे के घर जाकर खाते पीते थे साथ ही त्यौहार मनाते थे । पड़ोस में रहने वाले मुस्लिम दोस्त जब हमारे घर आते तो सब मिलकर आरती गाते सभी तिलक लगवाते और प्रसाद ग्रहण करके खेलने में मस्त हो जाते थे ।
मुझे आज भी भी गुरुद्वारा जाकर सर पर रुमाल बांधना बुरा नहीं लगता और किसी किसी मुस्लिम त्यौहार में यदि कोई टोपी पहनाये तो बुरा नहीं लगता । शायद हम भारतियों का यही खुलापन विभिन्नताओं के बाद भी विश्व में एकता की मिसाल बना हुआ है । चूँकि हमारे संस्कार सनातन यानि प्रकृति पर आधारित हैं, इसलिए हमें घुल-मिल जाने में कोई समस्या नहीं होती ।
हाँ अब चूँकि हमारा धर्म झील तालाबों और नदियों से सिमट कर फ़िल्टर्ड वाटर हो गया है तो स्वाभाविक है ब्रांडिंग भी होनी ही चाहिए । मैं आज भी कुएँ और हेण्डपम्प का पानी पीता हूँ बिना बीमार हुए, जबकि शहर से कोई आता है तो वह पानी की 20 लीटर वाली कई बोतलें मंगवा लेता है । क्योंकि वह इस जल को पीयेगा तो बीमार हो जाएगा ।
ठीक इसी प्रकार आज हमारा धर्म भी उन्नत फिल्टर्ड व ब्रांडेड हो गया है जो संघी-बजरंगी और तोगड़िया आदि की कंपनी में जाँची-परखी व डिस्ट्रिब्यूट की जाती है । पढ़े-लिखे और आधुनिक धार्मिक लोग उसी ब्रांडेड धर्म पर निर्भर हैं, वास्तविक प्राकृतिक धर्म से उनको हानि हो सकती है ।
चलिए हर किसी को विज्ञान और तकनीकी आधारित धर्मो को अपनाने का अधिकार है, सभी को स्वस्थ व प्रसन्न रहने का अधिकार है । लेकिन हम तो ठहरे मस्त मलंग हम तो सनातन धर्म अर्थात प्राकृतिक धर्म पर ही स्वस्थ व प्रसन्न हैं ।
मुझे इस धर्म में एक खुलापन मिलता है । ऐसा लगता है मैं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का एक हिस्सा हूँ । यहां धर्म के नाम पर कोई किसी को ज़िंदा नहीं जलाता कोई कोड़े नहीं चलाता कि आप मंदिर न जाकर गुरुद्वारा क्यों चले गए । यहाँ प्रत्येक व्यक्ति अपने मतों व मान्यताओं के साथ स्वतंत्र है…. लेकिन एक दिन ब्रांडेड कंपनियाँ यह स्वतंत्रता भी छीन लेंगी जैसे पानी छीन लिया शहरियों से । अब वे विवश हैं कंपनियों के सामने गिड़गिड़ाने और मोल देकर पानी खरीदने के लिए । इसी प्रकार भारत का धर्म एक दड़बे में सिमट जाएगा और लोग गुलामों, भेड़-बकरियों सा जीवन जिएंगे । ~विशुद्ध चैतन्य
READ  फिर लोग कहते हैं कि धर्म रक्षा करता है

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of