होशपूर्वक खाना और पीना

भोजन करते हुए या पानी पीते हुए भोजन या पानी का स्वाद ही बन जाओ, और उससे भर जाओ। हम खाते रहते…
Posted by ओशो प्रवचन on Saturday, April 25, 2015

READ  सांप्रदायिकता कट्टरता और उसी की भयानक उपज धर्मांधता ने लंबे वक्त से इस सुंदर धरती को जकड़ रखा है...

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of