क्या भारत में इस प्रकार के कोई प्रयोग हो रहे हैं ?

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=M8YjvHYbZ9w?feature=player_detailpage]

शायद नहीं ! क्योंकि हम तो श्रेष्ठ हैं विश्व में क्योंकि हमारे पूर्वजों वेद-पुराण लिखे, रामायण-महाभारत लिखे, आयुर्वेद व शल्य चिकित्सा की खोज की……. इसलिए हमें तो बस उनका मंदिर बनवाना है और जय जयकार करना है | बस वेद-पुराण रट लेने मात्र से ही हम सुरक्षित हो जायेंगे | हम सुरक्षित हो जायेंगे मंदिरों में चढ़ावा चढ़ाने और देवी-देवताओं को अगरबत्ती दिखाने से | हम राष्ट्रभक्त कहलायेंगे जब हम पर-धर्म निंदा और दंगे-फसाद में व्यस्त रहेंगे | हम भारत के सपूत कहलायेंगे जब हम अमेरिकी नागरिकता लेकर नासा में नौकरी पायेंगे | जब हम अमेरिकी नागरिकता पर अन्तरिक्ष की सैर पर जायेंगे… तब हम सच्चे भारतीय कहलायेंगे | हम भारतीय कहलायेंगे जब हम कान्वेंट स्कूल से शिक्षा प्राप्त कर विदेशों में सेटल हो जायेंगे | हम सच्चे भारतीय कहलायेंगे जब हम किसानों की जमीनें छीन कर विदेशियों को सौंप देंगे |

क्योंकि हमारे पूर्वजों ने वेद-पुराण लिखे थे… इसलिए हम को तो इतिहास के नाम पर बस अपनी रोटियां सेंकनी हैं और राजनीति करनी है |

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

READ  "हाथी चले अपनी चाल, कुत्ते भौंकते रहें हज़ार"

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of