सेक्स के 10 पॉपुलर मिथ

सेक्स को लेकर हर औरत और पुरुष के अपने सवाल और मिथ होते है. डॉक्टर आरोन कैरोल ने ऐसे मिथ की धज्जियां उड़ा दी है. उन्होंने इस मुद्दे पर एक किताब भी लिखी हैं. यहां पढ़िए इन 10 मिथ के बारे में कैरोल के तर्क और तथ्य.

पहला मिथ – लिंग और मोजे/कान/हाथ की लंबाई में संबंध होता है.
कैरोल का तर्क है कि ऐसा कुछ भी नहीं है. इस पर बहुत सारे अध्ययन हो चुके हैं. और यह पूरी तरह तर्कहीन है.

दूसरा मिथ – पुरुषों के लिंग की लंबाई 7 इंच होती है.
कैरोल के मुताबिक ईमानदारी से कहा जाए तो औसत रूप से पुरुषों के लिंग की लंबाई 5 इंच होती है. इंडियाना के एक संस्थान द्वारा 1600 पुरुषों के बीच किए सर्वे में यह रिजल्ट 5.6 इंच रहा.

तीसरा मिथ – कंडोम पहनना, सेक्स की टाइमिंग को घटा देता है.
कैरोल का कहना है कि कंडोम पहनने से सेक्स के समय में कोई अंतर नहीं आता.

चौथा मिथ – ज्यादा सेक्स से स्पर्म बनने की प्रक्रिया पर असर पड़ता है.
कैरोल ने 2005 में हुए एक शोध का उदाहरण देते हुए कहा, 6 हजार लोगों से लिए गए 9500 सैंपल पर आधारित शोध के मुताबिक हफ्ते में एक बार सेक्स करने वाले लोगों का औसत रहा 3.7 मिलीलीटर, जबकि सेक्स करने से पहले दिन सेक्स किए हुए लोगों का औसत रहा 2.3 मिलीलीटर. जबकि सेक्स करने के बाद उसी दिन सेक्स करने वाले लोगों का औसत रहा 2.4 मिलीलीटर.

पांचवां मिथ – पुरुष ज्यादातर गोरी स्त्री को पसंद करते है, जिसके बाल काले हों, बजाय भूरे बालों वाली के.
कैरोल का तर्क है कि यह बिल्कुल क्षेत्र या इलाके पर निर्भर करता है. इस बारे में कोई स्पष्ट रुझान नहीं है.

READ  सारे शंख अपनी-अपनी मौजूदगी की घोषणा करते हैं

छठा मिथ – ज्यादातर महिलाएं हेयरलेस नहीं होती.
कैरोल कहते हैं, ‘2 हजार से ज्यादा महिलाओं पर किए गए सर्वे के मुताबिक 11 प्रतिशत महिलाओं ने ज्यादातर समय अपने बाल साफ रखे. जबकि 20 प्रतिशत महिलाओं ने अपने बाल साफ नहीं किए. वहीं, 25 प्रतिशत ने कुछ समय अपने प्यूबिक बाल साफ किए. हालांकि ज्यादातर महिलाएं कुछ बाल रखती हैं.’

सातवां मिथ – छोटे की अपेक्षा बड़े स्तन कम संवेदनशील होते है.
कैरोल के मुताहिक ये गलत मिथ है. साइज से कोई फर्क नहीं पड़ता.

आठवां मिथ– सेक्स सबसे बढ़िया एक्सरसाइज है.
कैरोल कहते हैं कैलोरी जलाने के लिए ठीक है. लेकिन बहुत सारे लोग लंबी उम्र तक एक्टिव रहे. 30 मिनट के सेक्स में 85 से 250 कैलोरी जलती है और इसे सबसे बढ़िया एक्सरसाइज नहीं कहा जा सकता.

नौवां मिथ – महिलाओं के बारे में मिथ ये है कि वे ज्यादा धोखा देती हैं.
जी नहीं, कैरोल के मुताबिक पुरुषों के बराबर ही महिलाएं धोखा देती हैं और इसमें उम्र की कोई भूमिका नहीं होती. एक अध्ययन के मुताबिक 23 प्रतिशत पुरुषों ने अपनी वर्तमान रिलेशनशिप में चीट किया. वहीं, 19 प्रतिशत महिलाओं ने भी ऐसा ही किया.

दसवां मिथ – स्वप्नदोष केवल पुरुषों को होता है.
कैरोल का जवाब ये है कि स्वप्नदोष के शिकार महिला और पुरुष दोनों ही होते हैं.

Courtesy: Aajtak

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of