महाराज आप अकेले नहीं हैं ! हम सब आपके साथ है…


कई हज़ार साल पहले की बात है ! एक गाँव में एक संत रहता था | गाँव की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं थी कि वे अपने परिवार को ठीक से खिला सकें लेकिन थोड़ा बहुत संत को खाने को मिल ही जाता था | वह हमेशा ईश्वर से प्रार्थना करता कि हे ईश्वर सभी को समृधि दे | इस तरह कई वर्ष बीत गए, न तो समृद्धि आई और न ही स्थिति में कोई सुधार हुआ |

संत कई बार गाँव के लोगों को समझाने का प्रयास करता कि कुछ ऐसा काम किया जाय जिससे सभी का विकास हो | लेकिन सभी कहते. “हम तो रोज पूजा करते हैं मंदिर में और इससे ज्यादा क्या करें ? भूख और बेकारी से सभी इतने त्रस्त हैं कि दारु पिए बिना नींद नहीं आती और कभी कभी तो दारु पीने के पैसे भी नहीं होते | और आप कहते हो कि कुछ करो |”

संत भी अकेला क्या कर सकता था वह भी अपने आश्रम में बैठा इन्टरनेट में अंग्रेजी फिल्म देखता रहता |

एक दिन संत ने कुछ करने का मन बनाया और अपने बगीचे में जाकर बिना कुछ सोचे समझे खोदना शुरू किया | लोगों ने देखा संत गड्ढा खोद रहा है तो सभी सहानुभूति जताने आ गए कि देखो बेचारा अपने लिए कब्र भी खुद ही खोद रहा | लेकिन मदद किसी ने नहीं की |

बेचारा संत गड्ढा खोदते खोदते पाताल लोक पहुँच गया | वहाँ जाकर देखा कि वह किसी ऐसी जगह पहुँच गया है जहाँ चारों ओर खजाना बिखरा पड़ा है | उसने एक बोरी में खजाना भरा और ऊपर आ गया |

READ  रात या दिन ?

गाँव वालों ने देखा सोने के सिक्खों से भरी बोरी लेकर संत आया है तो आश्रम में मेला लग गया | हर कोई चढ़ावा लेकर आने लगा संत के लिए | कल तक एक रोटी जिस गाँव में मुश्किल से मिलती थी वहीँ आज दुनिया भर के पकवानों का ढेर लग गया था |

संत ने बताया कि उस जगह इतना ख़जाना बिखरा पड़ा है, जितना किसीने अपने पूरे जीवन में न देखा हो | लेकिन मैं तो बुढा हो गया हूँ इसलिए इतना ही ला पाया | बस देखते ही देखते बड़े बड़े बैगों से लैस होकर हजारों लोग खड़े हो गये |

“महाराज आप अकेले नहीं हैं ! हम सब आपके साथ है ! आप को कोई काम करने की आवश्यकता नहीं है | आप तो बस आदेश कीजिये हम सेवा के लिए तैयार हैं….”

अचानक लोगों ने देखा कि सोने से भरी उस बोरी का रंग बदल गया | लोगों ने पास जाकर देखा तो पाया कि उसमें राख भरा हुआ है | संत ने अपने हाथ ऊपर किये और ईश्वर को धन्यवाद दिया | कुछ ही क्षण बाद आश्रम फिर वीरान हो गया | अचानक संत ने आँखे खोली तो देखा कि वह कंप्यूटर टेबल पर ही सो गया था और ऐसा अजीब स्वप्न उसने पहली बार देखा था |

सारांश यह कि सेवा यदि स्वार्थ पर टिका हो तो वह सेवा नहीं है और न ही उस दान का कोई अर्थ है जो किसी फल की कामना के साथ जुड़ा हो, न ही वह प्रार्थना या पूजा कोई सुनता है जो सार्वजनिक हित से रहित हो, न ही वह आशीर्वाद का कोई मोल है जो चंद रुपयों के बदले दिए जाते हों | यह सब व्यर्थ हैं, क्योंकि ईश्वर निष्काम भाव से किये कर्मों को देख पाता है और निष्काम प्रेम को ही समझ पाता है | व्यापार तो मानव धर्म है और मानवों तक ही सीमित रहने दें | न संत व्यापारी होता है और न ही पशु-पक्षी | इसलिए यदि आप व्यवसायी या व्यापारी हैं तो वास्तविक आश्रम और संतों से दूर ही रहें वे आपको कुछ नहीं दे सकते | लेकिन आप इस योग्य हैं कि आप आर्थिक सहयोग दे सकते हैं संत या आश्रमों को तो निष्काम सहयोग करें और सब कुछ ईश्वर पर छोड़ दें | -विशुद्ध चैतन्य

READ  मानव जीवन का उद्देश्य

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of