मैं समर्थन करूँगा इस कानून का यदि भारत में भी ऐसा ही हो जाये तो |


राजधानी ला पेज में सांसदों ने आम सहमति से उस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी, जिसमें कहा गया कि छोटे बच्चे भी काम कर सकते हैं. हालांकि इसके लिए नौकरी देने वालों को बच्चों की मानसिक और शारीरिक सुरक्षा के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना होगा ताकि उनका शोषण न हो पाए. सीनेटर अडोल्फो मेनडोजा ने कहा, “आधिकारिक तौर पर बच्चों की उम्र सीमा 14 साल तय की गई है.”

लेकिन नए कानून में अपवादों का भी जिक्र है, जिसके लिए कुछ और योग्यताओं को पूरा करना होगा और फिर “बच्चे 12 साल की उम्र से भी काम कर सकते हैं, जो कि अंतरराष्ट्रीय चलन में भी है और आत्मनिर्भर बच्चे 10 साल की उम्र से ही काम कर सकते हैं.” अगस्त 2015 से लागू होने वाले इस कानून का मकसद बच्चों का स्वास्थ्य और सुरक्षा है. इसलिए खानों या गन्ने की कटाई में काम करने पर रोक है.

सीनेटर ने बताया कि इसके लिए बच्चों की मर्जी, उसके मां बाप की रजामंदी और लोकपाल से इजाजत जरूरी होगी. उसके बाद मामला श्रम मंत्रालय के पास आएगा. उम्र की सीमा कम करने के साथ ही सांसदों को उम्मीद है कि बोलीविया में गरीबी पर नियंत्रण किया जा सकेगा, जो लातिन अमेरिका में सबसे गरीब देशों में है. वहां करीब 850,000 बच्चे नियमित रूप से काम करते हैं और परिवार के पालन पोषण में योगदान देते हैं.

सीनेटर मेनडोजा ने कहा, “सबसे बड़ी समस्या गरीबी है, बाल मजदूरी नहीं.” उन्होंने उम्मीद जताई कि 2020 तक बाल मजदूरी को खत्म कर दिया जाएगा. इस प्रस्ताव को कानूनी दर्जा देने के लिए अब राष्ट्रपति एवो मोरालेस के पास भेजा गया है, जिनके दस्तखत जरूरी हैं. पिछले साल के बच्चों के ट्रेड यूनियन ने बाल मजदूरी की न्यूनतम सीमा कम करने और कानून के जरिये उनके अधिकारों को मजबूत बनाने की मांग की थी.

READ  अब लोग नेता और बाबा लीला देखना चाहते हैं आधुनिक होना चाहते हैं, तो होने दीजिये...

साभार:http://www.dw.de/बाल-मजदूरी-को-कानूनी-दर्जा/a-17757736

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of