प्रत्येक व्यक्ति अपनी ही यात्रा पर निकला है | सौभाग्यशाली होते हैं वे, जिनको हमसफर मिल जाते हैं |-विशुद्ध चैतन्य

Don't Expect

READ  पढ़ा लिखा व्यक्ति केवल उतना ही जानता है जो पढ़ाया-लिखाया जाता है

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of