जितनी जल्दी हो सके जाग जाओ, नहीं तो भविष्य इस फिल्म में देख लो |

कई वर्ष पहले एक फिल्म एक फिल्म देखी थी, “रेज़ीडेंट ईविल-3” | मुझे होलीवूड की फिल्में अधिक पसंद थीं क्योंकि वे जो कल्पना करते थे वे परामनोविज्ञान से जुड़ी होती हैं, जबकि भारतीय फिल्में तो बेडरूम और सड़क छाप प्रेम में ही सिमट कर रह गयी थी | तो मैंने जब वह फिल्म देखी तो जो कल्पना उन्होंने की वह मुझे एक चेतावनी लगी भविष्य के लिए | शायद यही भविष्य में होने वाला है और इसलिए ही नेता और व्यापारी अपने लिए सुरक्षित जगहों की तलाश में हैं | वे अपने धन सुरक्षित स्थानों में छुपा रहें हैं और अधिक से अधिक लूटने में लगे हुए हैं |
जनता जयकारा लगाने में मस्त हैं और ‘मैं सुखी तो जग सुखी’ के सिद्धांत पर जी रही है | ये लोग नहीं जानते कि जब अगला जन्म लेकर आयेंगे तो उन्हें और भी बुरी स्थिति का सामना करना पड़ेगा | आज ही स्थिति जो कुछ राज्यों में अब देखने मिल रहें हैं, वही पूरे देश में देखने को मिलेंगे | क्योंकि हम नेताओं को खुश करने में और मंदिरों-मस्जिदों के गोदामों में सोना भरने में लगे हुए हैं | यदि हम अब भी नहीं जाते तो एक दिन हम भी इन्हीं की तरह एक दूसरे के माँस नोच रहे होंगे… नोच तो अभी भी रहें हैं…लेकिन अभी केवल बच्चियों और महिलाओं का ही नोच रहें हैं | मुस्लिम देशों ने तो बहुत ही तरक्की कर ली है और जल्दी ही वे अपनी बीमार मानसिकता के जीवाणु हमारे देश में भी फैलाना शुरू कर देंगे | वहाँ ईसाई बचे तो उनको भी मार कर बाहर किया जा रहा और आपस में शिया और सुन्नी ही मारकाट मचा रहें हैं | जितनी जल्दी हो सके जाग जाओ, नहीं तो भविष्य इस फिल्म में देख लो | -विशुद्ध चैतन्य
फिल्म में रूचि न हो तो इस लिंक पर जाएँ…According to CNN-IBN, 2 million children die of hunger each year in India.
[youtube https://www.youtube.com/watch?v=-YwPbSlX7mE?feature=player_detailpage&w=640&h=360]

READ  यदि आप भी अपने भाग्य को अपने अनुसार चलाना चाहते हैं, तो नकल मत कीजिये

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of