‘जो इंसान नहीं कर सकते, भैंसें वह करती हैं।’

Nigeria-Crossing-620x400
ट्विटर पर सक्रिय रहने वाले भारतीय टीम के क्रिकेटर वीरेद्र सहवाग उर्फ वीरू ने अपने ट्विटर हैंडल से नाइजीरिया की एक फोटो ट्वीट की है जिसमें कई सारी गायें और भैंसे एक ‘पैदल पार पथ’ पुल के माध्यम से सड़क पार कर रही हैं। वीरू ने इस फोटो को ट्वीट करके यह दिखाने की कोशिश की है कि इंसान की ही भलाई के लिए बनाए गए जिन नियमों का पालन इंसान खुद नहीं करता है उन नियमों का पालन जानवर करते हैं। नाइजिरिया की इस तस्वीर को अब तक एक हजार एक सौ लोग लाइक और 523 लोग रीट्वीट कर चुके हैं।

सहवाग को भी नाइजीरिया की भैंस ही मिली थी दिखाने को ? हमारे यहाँ की भैंसे क्या नाइजीरिया की भैंसों जितनी भी अक्ल नहीं रखतीं ? अरे सहवाग साहब क्यों उन लोगों की इज्जत उतारने में लगे हैं जो भैंस का दूध पीकर अक्लमंद बने हुए हैं और पटरियाँ उखाड़कर, तोड़फोड़, लूटपाट और बलात्कार करके भैंसबुद्धि का परिचय देते हैं ?
कहते हैं कि माँ का दूध केवल अपने बच्चे की गुणवत्ता व विकास के लिए होता है…यानि माँ का दूध बच्चे के लिए आवश्यक होता है तक वह अपने पिता व माँ की तरह ही शक्तिशाली व बुद्धिमान बने | लेकिन इंसान ही एकमात्र ऐसी प्रजाति है जो अपना दूध न पिलाकर दूसरे जानवरों का दूध पिलाकर बड़ा करते हैं और परिणाम यह आता है कि इंसानों की संख्या दिन-प्रतिदिन लुप्त होती जा रही है और दो पैर वाले अंग्रेजी बोलने, डिग्रीधारी जानवरों की संख्या बढ़ती चली जा रही है |
अब यदि कोई नाइजीरिया की भैंसों से समझदार भैंस भारत में दिखा दे, तो तसल्ली हो जाए कि कम से कम कुछ लोग तो हैं जो भैंस का दूध पीकर भी समझदार हैं | ~विशुद्ध चैतन्य
यह देखिये सामान्य भैंस जो सहवाग की नाइजीरियाई भैंसों जितनी समझदार नहीं है… क्योंकि यहाँ समझदार लोगों ने इनके लिए पुल ही नहीं बनाया |
[youtube https://www.youtube.com/watch?v=wTJlhUailiU]
READ  मनोविज्ञान#3 मन मेँ गिल्ट/ अपराध  बोध ना पालेँ (व्यक्तित्व पर प्रभाव)   Guilt (emotion)

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of