विकल्प दीजिये !


मैंने कहा कि अपराधियों, घोटालेबाजों को मत जिताइये…. .उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि अपनी जमीनों को बेचने के स्थान पर उसे उत्पादक बनाइए…. उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि नौकरी के पीछे मत भागिए स्वरोजगार चुनिए और आत्मनिर्भर बनिए… उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि धार्मिक उन्माद व नफरत फैलाने वालों से दूरी बनाइये…. उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि अंधभक्त मत बनिए, समर्थक बनिए…. उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि नेताओं कि दुम पकड़ कर दौड़ने से अच्छा है आपस में सहयोगी हो जाइए…. उत्तर आया विकल्प दीजिये !

मैंने कहा कि सब्जी में नमक कम है…. उत्तर आया विकल्प दीजिये |

मैंने कहा कि चाय में चीनी कम है…… उत्तर आया विकल्प दीजिये !

जिनके पास इतना भी विवेक न हो, कि उपरोक्त परिस्थिति में क्या करना चाहिए, मुझे नहीं लगता कि उनको विकल्प का अर्थ भी पता होगा | उनको विकल्प दे भी दिया जाए तो उनकी समझ में नहीं आयेगा कि इस विकल्प को चीनी की जगह प्रयोग करना है, या नमक की जगह | ~विशुद्ध चैतन्य

537 total views, 1 views today

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/LtzOF

1
पोस्ट से सम्बंधित आपके विचार ?

Please Login to comment
avatar
1 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
1 Comment authors
रूपेंद्र सिंह Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
रूपेंद्र सिंह
Guest

🙂