धर्म स्थल एक बाजार में परिवर्तित हो गया और मंदिर-मस्जिद बन गये रिश्वतखोरों के दफ्तर

जब हम ईश्वर की अराधना करते हैं, तब हम द्वैत की अवधारणा लेकर चलते हैं | लेकिन जब हम ध्यान करते हैं, तब हम अद्वैत पर कार्य…
Posted by विशुद्ध चैतन्य on Sunday, 21 September 2014

966 total views, 1 views today

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/RxWoU

पोस्ट से सम्बंधित आपके विचार ?

Please Login to comment
avatar
  Subscribe  
Notify of