सनातन धर्म की शिक्षा कहा से मिलेगी ?

किसी ने मुझसे प्रश्न किया; “निम्नलिखित दो प्रश्नों के उत्तर से अनुग्रहित करने की कृपा करें |


1.यह बताइए सनातन धर्म मे दूसरे समानांतर धर्मो से क्या बेहतर है ?

2.अगर किसी को सनातन धर्म पर चलना हो या अपनाना हो तो उसे सनातन धर्म की शिक्षा कहा से मिलेगी ?

सबसे पहले तो यह बता दूं कि सनातन धर्म का कोई समानान्तर धर्म नहीं है | अर्थात जो युनिवर्सल अर्थात सार्वभौमिक है, वह किसी, प्रांत, क्षेत्र, किताब या व्यक्ति पर आधारित धर्मों का समानांतर हो ही नहीं सकता |

दूसरी बात जिसने सबको बनाया, सबकुछ बनाया, उसे मानने का ढोंग करने वाले उसी के बनाये प्रकृति का सम्मान नहीं करते, उसी के बनाए मानवों का सम्मान नहीं करते, उसी के बनाये नियमों व कानूनों अर्थात सनातन धर्म का सम्मान नहीं करते और न ही अपने आचरण में लाते हैं

यदि सनातन धर्म की शिक्षा ही लेनी होती किसी को, तो किसी भी धार्मिक ग्रन्थ से ली जा सकती है | लेकिन दुर्भाग्य से न तो कोई सनातन धर्म की शिक्षा दे रहा है और न ही कोई ले रहा है | सभी धार्मिक ग्रंथों से केवल सांप्रदायिक धर्मों की ही शिक्षा लेते और देते हैं |

सभी धार्मिक ग्रंथों को उठा लीजिये, और उनमें से उन अंशों को निकाल लीजिये जिनमें समानता है | फिर उनमें से उन अंशों को छाँट लीजिये जो बिलकुल एक ही बात समझा या सिखा रहे हैं, अर्थात परस्पर विरोधी वक्तव्य या विचार नहीं हैं | सनातन धर्म समझ में आने लग जाएगा |

 

READ  जंगल का ही नहीं, हमारे देश का भी शान हैं शेर !

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of