कानून के जानकारों को हिंदी बोलने, लिखने, पढ़ने में शर्म आती है

बहुत ही दुःख की बात है कि भारत आज भी अंग्रेजों का गुलाम है | आज भी अंग्रेजी से मुक्त नहीं हो पाया | आज भी न्याय व्यवस्था…
Posted by विशुद्ध भारतीय on Tuesday, April 29, 2014

READ  स्वर्ग वहीं है, जहाँ मानवों के विकासशील आधुनिकता के कदम नहीं पड़े !

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of