जो व्यक्ति जितने हलके स्तर का होगा उसका दिया सम्मान भी उतना ही कच्चा होगा

दो कौड़ी का है वह सम्मान जो दो मिनट में ढह जाता है | इसलिए वास्तविक सम्मान व दिखावे के सम्मान का अंतर समझने के लिए स्वयं …

Posted by विशुद्ध चैतन्य on Sunday, April 27, 2014

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

READ  एक पंडित जी बोले कि ओशो बनने का बड़ा शौक चढ़ा हुआ है ?

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of