सभी भारतीयों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

आशा करता हूँ कि शीघ्र ही राम-मंदिर बनेगा और इन मासूमों को फिर कभी मन-मसोस कर नहीं रहना पड़ेगा | आशा करता हूँ कि भारत भी शीघ्र ही इस्लामिक देशों की तर्ज पर हिन्दूराष्ट्र घोषित हो जाएगा और फिर देश में न भुखमरी रहेगी, न दंगे होंगे, न कोई किसान या दलित आत्महत्या करेगा, न सवर्ण दलितों पर अत्याचार करेंगे | न नेता भ्रष्टचार और घोटाले करेंगे न पूंजीपतियों के टैक्स और कर्ज माफ़ करके किसानों की जमीने बेचकर भरपाई की जायेगी | शायद बाकी इस्लामिक देशों की तरह हम भी हर वह शौक पूरा कर पायेंगे जो केवल खाबों में देखा करते थे | शायद हम भी पाकिस्तान, सीरिया और ईराक कि तरह विश्व के सबसे सुख-संपन्न देशों में गिने जायेंगे |

मंदिरों, मस्जिदों, गिरजाघरों, गुरुद्वारों, दरगाहों का देश है भारत | कई मंदिर करोड़ों का कारोबार करते हैं प्रतिदिन, फिर भी देश बदहाल है | क्योंकि राम मंदिर नहीं बना | यदि हमारे पूर्वज बाकी देवी देवताओं के मंदिर न बनाकर केवल राम का मंदिर बना देते तो, आज देश में न कोई भूखा मरता, न किसान आत्महत्या करता, न आदिवासी बेमौत मारे जाते, न ही कहीं कोई घोटाला होता, न ही कोई बलात्कार होता, न ही धर्म व जाति के नाम पर गुंडों-मवालियों की सेनायें खड़ी होतीं, न ही जुमलेबाज, धूर्त मक्कार नेता पैदा होते इस देश में……यह देश स्वर्ग होता और हम सब स्वर्गवासी !

तो जब तक राम-मंदिर नहीं बन जाता, यह देश इसी प्रकार गरीबी में जियेगा क्योंकि राम जी बहुत नाराज हैं मंदिर नहीं बनने से और शायद भारत से बाहर स्विट्ज़रलैंड में निवास कर रहे हैं… तभी हर नेता स्विसबैंक में पैसा जमा करवाता है | जैसे ही राम-मंदिर बन जाएगा, भारत हिन्दूराष्ट्र घोषित हो जाएगा और सारे सेक्युलर भारत से खदेड़ दिए जायेंगे | राम भगवान मोदी जी के विशेष प्लेन से भारत में वापस आ जायेंगे… और जब तक रामभगवान् वापस नहीं आते, तब तक बाकी भगवान भी असहाय हैं कुछ कर पाने में | न ब्रम्हा, न विष्णु, न शिव, न दुर्गा, न लक्ष्मी, न काली, न सरस्वती…. सब बेचारे अपनी सारी शक्तियाँ खो चुके हैं | वे भी केवल नेताओं के रहमों-करम पर पड़े हुए हैं, न जाने कब इनकी टेढ़ीदृष्टि इनके ठिकानों पर पड़े और वे भी बेघर हो जाएँ | न जाने कब हिंदुत्व के ठेकेदार फतवा जारी कर दें कि राम के सिवाय सारे देवी देवता नकली हैं, और इनकी पूजा करना हिन्दूधर्म से बगावत है | न जाने कब घोषणा हो जाए कि नमस्ते और प्रणाम जैसे अभिवादन वाले शब्द बोलना पाप है और जय-श्रीराम बोलना पुण्य है….

READ  पहले जब मैं बच्चा था यानि कई हज़ार साल पहले...

खैर मैं ठहरा सनातनी और इसीलिए रामभक्तों को कभी पसंद नहीं आऊंगा | तो हो सकता है अगले गणतंत्र दिवस तक मुझे भी देश निकाला दे दिया जाए, हिन्दूधर्म का अपमान करने के जुर्म में | या फिर शरिया कानून को ही हिन्दूधर्म का मूल खोया हुआ, चुराया हुआ कानून बताकर वापस भारत में ले आया जाए और तब मुझे भी उसी इम्पोर्टेड शरिया कानून के अंतर्गत ईशनिंदा का अपराधी बता कर सजा सुना दी जाए |

चलिए जो भी हो…. आप सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ | ~विशुद्ध चैतन्य

1
लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
1 Comment threads
0 Thread replies
1 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
1 Comment authors
sumbul Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
sumbul
Guest
sumbul

Sahi hn apke vichar.