साक्षी भाव का ध्यान


“…लेकिन मैं ठीक होना ही नहीं चाहता तो कोई भी विधि काम नहीं करेगी | मैं कई ऐसी चीजें जानता हूँ जिनसे में अपना उपचार कर सकता हूँ, लेकिन कुछ नहीं कर रहा हूँ |

 कारण है कि मैं इस समय सभी प्रकार के जिम्मेदारियों से मुक्त हूँ | न मुझे किसी से मिलना है और न ही कोई मुझसे मिलने आने वाला है | तो यहाँ मैं अपने ऊपर ही प्रयोग कर सकता हूँ | मैं जान सकता हूँ वे बहुत सी बातें जो शायद पहले यहाँ किसी ने जानने की कोशिश नहीं की |

 ओशो ने कहा था कि जब दुःख तुम्हें घेर लें, उदासी के गहरे अंधेरों में सामने लगो तब तुम साक्षी हो जाओ | भागो मत, बचने के उपाय मत करो, उनका स्वागत करो, एक आत्मीय मित्र की तरह उन्हें गले लगाओ | आपका अपना पन, आत्मीयता उन्हें रास न आएगी क्योंकि उन्होंने तो हमेशा लोगों को दूर भागते हुए देखा है और आज आप उनका स्वागत कर रहे हो | उनको यह आत्मीयता रास न आयगी और वे भाग खड़े होंगे | तो गहरे में डूब जाओ, जानने और समझने की कोशिश करो कि दुःख और उदासी हैं क्या ? उनका आकार-प्रकार और व्यवहार क्या है…?

 तो मैं वही ध्यान कर रहा हूँ | साक्षी भाव का ध्यान |” –विशुद्ध चैतन्य

लेख से सम्बंधित अपने विचार अवश्य रखें

READ  ध्यान योग के लाभ

लेख से सम्बन्धित आपके विचार

avatar
  Subscribe  
Notify of