वे सभी पलायनवादी ही हैं जो अपनी पत्नी-बच्चों को छोड़कर विदेशों में पड़े हुए हैं चंद रुपयों के लिए |

87 total views, 87 views today

Landmafia

भारतवर्ष स्वयं एक पार्टी है और हर भारतीय सदस्य है उसका । संसद भवन केन्दीय कार्यालय है भारतीयों के प्रतिनिधियों का ।

281 total views, 33 views today

असामाजिक तत्त्व व नेताओं के पालतू गुंडे-मवालियों के संगठन में वही एकता होती है, जो लकड़बग्घों, सियारों, भेड़ियों, जंगली कुत्तों में होती है

666 total views, 7 views today

वे लोग भी राजनीती ही कर रहे होते हैं जो निष्क्रिय होते हैं या यह कहते हैं कि हमें राजनीती से कोई लेना देना नहीं

162 total views, no views today

साम्प्रदायिक धार्मिकों की रूचि नहीं होती देश व राज्यों के हितों में, उन्हें रूचि होती है मंदिर-मंदिर खेलने में, हिन्दू-मुस्लिम खेलने में, सवर्ण-दलित खेलने में |

358 total views, 1 views today

साम्प्रदायिकों की भीड़ सबसे बड़ी दिखाई देगी जब भी कहीं कोई मंदिर-मस्जिद का खेल चल रहा हो, जब भी कहीं कोई धार्मिक दिखावा व ढोंग का कार्यक्रम चल रहा हो

166 total views, no views today

डिग्रियाँ प्राप्त कर लेने मात्र से कोई शिक्षित नहीं हो जाता, शिक्षित होने के लिए गुरु की आवश्यकता होती है | और गुरु का डिग्रीधारी होना अनिवार्य नहीं होता, क्योंकि जीवन की शिक्षा डिग्रियों से नहीं, अनुभवों से प्राप्त होती है |

197 total views, no views today

तो फिर प्रश्न उठता है कि जब कर्म धर्म नहीं है, रीतिरिवाज, धर्म नहीं है, पूजा-पाठ धर्म नहीं है, कर्त्तव्य धर्म नहीं है तो फिर धर्म है क्या ?

422 total views, 1 views today

किसी की नजर में मुफ्तखोर तो किसी की नजर में हरामखोर तो किसी की नजर में समाज और देश पर बोझ होते हैं संन्यासी

804 total views, no views today