आपसे कहा जाता है कि जो पूर्वजों ने अपने अनुभवों से लिखा या कहा वही सही है और आप अपने अनुभवों से जो कुछ भी जानते समझते हैं वह गलत | इसका अर्थ तो यह हुआ कि प्राचीन काल के लोग हमसे अधिक बुद्धिमान व विद्वान थे ? इसका अर्थ तो यह हुआ कि उन्होंने जितना जाना, समझा, उससे आगे की यात्रा हमने की ही नहीं, उन प्राचीनकालीन विद्वानों के लेवल तक भी नहीं उठ पाए, बल्कि उस लेवल पर ही टिके रह गये, जिस लेवल के लोगों को वे विद्वान समझा रहे थे ?

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/X4mt0

1,706 total views, 6 views today

मुझे आज भी दिल्ली के अंडे के पराठें अवश्य याद आते हैं | सर्दियों के दिनों में ये पराठें मेरी पहली पसंद हुआ करती थी | लेकिन आज मैं इन परांठों के विषय में सोच भी नहीं सकता क्योंकि तब मेरा भगवा कलंकित हो जाएगा

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/LHzIn

1,376 total views, 1 views today

बचपन में एक गीत बहुत पसंद था मुझे, ‘गंगा तेरा पानी अमृत’ | जब भी गाँव में कोई धार्मिक या वैवाहिक समारोह होता था, तो लाउडस्पीकर मंगवाया जाता और यह गीत अवश्य बजता था और दिन में कई बार बजता था | मैंने कभी गंगा…

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/3tk9S

2,690 total views, 2 views today

भाग्य

मैं ऐसे लोगों से दूरी बना लेता हूँ जो केवल दूसरों की बुराई करने में ही अपना जीवन नष्ट करते हैं | मैं ऐसे लोगों से भी दूरी बना लेता हूँ, जो दिन रात अभावों, आर्थिक तंगी का रोना लिए बैठे रहते हैं | क्योंकि ऐसे लोग अपने ही भाग्य के दुश्मन होते हैं और ऐसे लोगों की संगत, आपके अपने भाग्य को प्रभावित करती है

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/CP4bw

1,247 total views, 2 views today

मेरे एक मित्र श्री D.r. Godara जी ने इस पुस्तक के विषय में जानकारी दी और मुझसे अपनी राय व्यक्त करने का आग्रह किया | मैंने पुस्तक के कुछ अंश पढ़े, लेकिन पूरी नहीं पढ़ी | फिर भी मैं इतना तो समझ ही चुका था कि पुस्तक के लेखक गोकुलजी, बहुत ही सुलझे विचारों वाले, पढ़े-लिखे व्यक्ति हैं |

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/y22T6

491 total views, no views today

न तो कोई स्त्री अधिक समय तक अच्छी लगती है भले ही कितनी सुंदर क्यों न हो, न ही कोई रिश्ते अच्छे लगते हैं | बस वही लोग अच्छे लगते हैं, जिनके सामने आपको मुखौटा लगाकर न रहना पड़े

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/xkShh

1,473 total views, no views today

बाघ बिल्ली प्रजाति का सबसे बड़ा जानवर है. वयस्क बाघ का वजन 300 किलोग्राम तक हो सकता है. WWF के मुताबिक एक बाघ अधिकतम 26 साल तक की उम्र तक जी सकता है. बाघ शिकार करने के लिए बना है. उनके ब्लेड जैसे तेज पंजे,…

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/IdjeF

2,000 total views, 3 views today

“जो धर्म, सम्प्रदाय और पंथ सहयोगी न हो, जो धर्म, सम्प्रदाय और पंथ द्वेष की भावना जागृत करता हो, जो धर्म निर्दोषों की हत्या और स्त्रियों पर अत्याचार करवाता हो, वह मानवीय धर्म तो ही ही नहीं सकता |” ~विशुद्ध चैतन्य

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/vblg8Lnq

136 total views, no views today