वे सभी पलायनवादी ही हैं जो अपनी पत्नी-बच्चों को छोड़कर विदेशों में पड़े हुए हैं चंद रुपयों के लिए |

87 total views, 87 views today

तो फिर प्रश्न उठता है कि जब कर्म धर्म नहीं है, रीतिरिवाज, धर्म नहीं है, पूजा-पाठ धर्म नहीं है, कर्त्तव्य धर्म नहीं है तो फिर धर्म है क्या ?

422 total views, 1 views today

काम, क्रोध, लोभ मोह से हर धार्मिक, ब्राह्मण-पुरोहित, साधू-संत इतने भयभीत क्यों रहते हैं, इतनी घृणा क्यों करते हैं, कभी सोचा आप लोगों ने ?

493 total views, no views today

लोग कार्लमार्क्स, बुद्ध, जीसस या अन्य किसी भी महान व्यक्तित्व के अनुयाई (follower) बनकर समझते हैं कि उन्होंने कोई महान कार्य कर लिया | जबकि उन्होंने सिवाय जय जय करने के, एक नया सम्प्रदाय खड़ा करने के कुछ नहीं किया

82 total views, 6 views today

क्या तुम मूर्ख हो जो विश्व के देशों में गरीबी-भुखमरी होते हुए भी अरबों रुपयों का अन्न,, दूध,, घी,, तेल बिना खाए ही नदी नालों में बहा देते हो???

299 total views, no views today

—●●●||| साकार बिना निराकार कैसे |||●●●—- साधना यदि इतनी आसान होती तो निराकार ब्रह्म को बार – बार साकार रूपों में इस धरा पर न आना पड़ता ।  विशुद्ध चैतन्य साधना तो बहुत ही आसान है केवल साधक नहीं हैं | ईश्वर को बार बार आना…

1,213 total views, 33 views today

आपने किसी के कहने पर गुरु मान लिया क्या आपने उनकी उपयोगिता को परखा? अगर नहीं तो आप अंधभक्ति में लीन हैं | –सोनिका शर्मा कुछ घटनाएँ होती हैं जिन्हें हम नियंत्रित कर पाते हैं, लेकिन कुछ घटनाएँ ऐसे होती हैं जो नियति तय करती…

1,343 total views, no views today

“सुप्रभात मित्रो ! आज सुबह सुबह ही फेसबुक ने एक अनोखी चौंकाने वाली खबर सुना दी | मैं पाखंड का विरोध करता हूँ यह बात फेसबुक को भी पता है इसलिए ही ऐसी ऐसी खबरें लेकर आता है…आप भी पढ़िए… “Durgesh Shukla and पाखण्डी समाज…

1,239 total views, 33 views today

 “स्वामी जी प्रणाम ,आप की आज की पोस्ट पढ़ के कुछ सवाल मन में उठे है कृपया आप उन का निराकरण कर देंगे तो बड़ी कृपा होगी -जैसा आपने कहा की किसी की निस्वार्थ सेवा करने वाला भी बदले में कुछ न कुछ पाने की…

451 total views, no views today