Definition of Humanity

किसी को लगता है कि उसका मजहब ही मानवता सिखाता है और बाकी सभी मजहब पशुता या दानवता सिखाते हैं | किन्तु परिभाषा किसी को नहीं पता |

43 total views, 7 views today

आइये आज मैं ऐसे शब्दों के आधुनिक अर्थ व परिभाषाएं बताता हूँ, जो भारतीय जनमानस के हृदय में बसता है, जिनके बिना भारतीय समाज का आस्तित्व नहीं

375 total views, 1 views today

मुझे क्षमा करें, मुझसे बिलकुल भी अपेक्षा न रखें कि मैं इन नेताओं, अधिकारीयों, धर्म व जाति के ठेकेदारों या कूपमंडूक धार्मिकों सभ्य लोगों की तरह भला व सदाचारी, परोपकारी बन जाऊं

46 total views, 3 views today

इस तस्वीर को देखकर मुझे कई हज़ार वर्ष पुरानी एक कहानी याद आ गयी और साथ ही याद आ गयी वही स्वर्ग के कपड़े पहन कर राज्य की सैर करने निकले राजा की कहानी जो बचपन में सुनी थी | स्वर्ग के कपड़े पहनकर घुमने…

1,104 total views, 33 views today

प्राचीन काल में पर्दा-प्रथा नही थी भारत में | लेकिन विदेशियों के आगमन, स्त्रियों के हरण व कुत्सित मानसिकता के उत्थान के साथ पर्दा प्रथा आस्तित्व में आ गया | फिर कई जागृत आत्माओं के योगदान व बलिदानों के बाद पर्दा प्रथा से भारत को…

662 total views, 14 views today

अक्सर आप लोगों ने पढ़े-लिखे और जमीने विद्वानों को यह कहते सुना होगा, “स्वप्न तो केवल स्वप्न होता है सत्य नहीं | स्वप्न मन की दबी हुई भावनाओं को ही दिखाता है या दिन में जो कुछ भी हम सोचते हैं, देखते हैं वही सब…

630 total views, 38 views today

कई हज़ार वर्ष पुरानी बात है, धन्नासेठ ने अपनी कंपनी का GM नियुक्त किया चुनमुन परदेसी को | चुनमुन को हज़ारों उम्मीदवारों का इंटरव्यू लेने के बाद चुना गया था | देश विदेश घूमना, महंगे महंगे कपड़े पहनना  और तीस हज़ार रूपये प्रतिकिलो के भाव…

256 total views, no views today

कई हज़ार वर्ष पुरानी बात है | मोतीचूर नामक चक्करभर्ती सम्राट राज्य करता था किसी देश में | वह बहुत ही आधुनिक विचारों का था और नई खोज करने के लिए विश्वभ्रमण करता रहता था | उसका राजकाज उसके मंत्री और उनके परममित्र धन्नासेठ चलाया…

654 total views, 66 views today

कई हज़ार वर्ष पुरानी बात है | रामराज्य नामक एक देश में बहुत अराजकता फैली हुई थी | जनता ‘मैं सुखी तो जग सुखी’ के सिद्धांत को आत्मसात कर चुकी थी और यह भाव उनके खून में भी इस तरह जड़ें जमा चुकी थी कि…

374 total views, no views today

बात कई हज़ार साल पुरानी है | उन दिनों लोग इतने अशिक्षित होते थे कि अंग्रेजी लिखना तो दूर, बोलना भी नहीं जानते थे | यहाँ …Posted by विशुद्ध चैतन्य on 2 अक्टूबर 2013 201 total views, no views today

201 total views, no views today