शिक्षक, धर्मगुरुओं संत-महंतों और विद्वानों का कार्य व कर्तव्य था कि समाज व राष्ट्र के हित व समृद्धि के लिए मार्गदर्शन करते नयी पीढ़ी का | लेकिन वे अपने कर्तव्यों से भटक गए और कठपुतली बन गए राजनेताओं, अपराधियों और देश के सौदागरों के |…

648 total views, no views today

? रिपोर्टर -आपका प्रकोप दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है,  क्यों ? ? मच्छर : सही शब्द इस्तेमाल कीजिये, इसे प्रकोप नहीं फलना-फूलना कहते हैं. पर तुम इंसान लोग तो दूसरों को फलते-फूलते देख ही नहीं सकते न ? आदत से मजबूर जो ठहरे. ?…

425 total views, no views today

मेरा दड़बा सबसे महान का नारा लगाने वाले जब भाईचारा और सौहार्द की बातें करें तो उनका तात्पर्य केवल अपने दड़बे के लोगों की आपसी भाईचारा और सौहार्द तक ही होता है, यह और बात है कि यह एकता केवल राजनैतिक या धार्मिक रैलियों में…

634 total views, no views today

 गाँव और शहर में सबसे बड़ा अंतर यह है कि शहर में मानसून का पता तब चलता है जब वैज्ञानिक बताते हैं | जबकि गाँव में तेज हवाएं और घनेकाले बादल मानसून की सुचना देते हैं | विज्ञान और प्रकृति में बस वही अंतर है…

1,231 total views, no views today

अब कश्मीर हिंसा पर केंद्र ने नया प्लान बना लिया है। आतंक विरोधी कानून के तहत अलगाववादियों पर कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जाएगी। इसकी मॉनिटरिंग एनएसए अजीत डोभाल करेंगे।

130 total views, 16 views today

एक शाम रेलवे स्टेशन पर एक स्वामीजी के दर्शन हो गए। ऊँचे, गोरे और तगड़े साधु थे। चेहरा लाल। गेरुए रेशमी कपड़े पहने थे। साथ एक छोटे साइज़ का किशोर संन्यासी था। उसके हाथ में ट्रांजिस्टर था और वह गुरु को रफ़ी के गाने के…

451 total views, no views today

कई हज़ार साल पुरानी बात है एक महान देश के महान सम्राट का महान दरबार लगा हुआ था | पूरे देश के महान लोग वहाँ मंत्रणा कर रहे थे | विषय बहुत ही गंभीर था, एक मौलवी ने एक हिन्दू लड़की का बलात्कार करके उसका…

561 total views, 14 views today

जो मेरे पोस्ट पढ़ते हैं उनमें से अधिकाँश चुनमुन परदेसी से तो परिचित ही होंगे, क्योंकि इनकी कई बड़े बड़े कारनामे आपने मेरे पोस्ट में पढ़े होंगे | चुनमुन परदेसी जब विलायत से लौट कर आये विलायती डिग्री लेकर, तो कोई नौकरी इन्हें जमी ही…

577 total views, no views today

जो मेरे पोस्ट पढ़ते हैं उनमें से अधिकाँश चुनमुन परदेसी से तो परिचित ही होंगे, क्योंकि इनकी कई बड़े बड़े कारनामे आपने मेरे पोस्ट में पढ़े होंगे | चुनमुन परदेसी जब विलायत से लौट कर आये विलायती डिग्री लेकर, तो कोई नौकरी इन्हें जमी ही…

992 total views, 38 views today