कोई एक व्यक्ति किसी का आदर्श केवल इसलिए हो जाता है, क्योंकि वह स्वयं भीतर से आदर्श व्यक्ति का कुछ गुणधर्म लेकर चलता है | अंगुलिमाल भले ही सब के लिए खतरा रहा हो, लेकिन बुद्ध से मिलने के बाद पहली बार उसका स्वयं से…

1,014 total views, 14 views today

बचपन में फ़कीर या संन्यासी की रूपरेखा जो मेरे मन बस गयी थी, वह कुछ वैसा था जो सदैव प्रसन्नचित रहता है, हँसता, गाता, नाचता अपनी धुन में मगन रहता है | जब भी उनकी कोई तस्वीरें देखता तो ऐसा लगता था कि उनके जीवन…

919 total views, no views today

अक्सर हम सुनते हैं कि धर्म खतरे में हैं | गली मोहल्लों से लेकर विश्वस्तर पर धर्म रक्षक बने लुच्चे लफंगों की सेनाएं तैनात हो रहीं हैं | हर किताबी रट्टामार धार्मिक इस बात पर बहुत ही गंभीरता से विश्वास करता है कि धर्म खतरे…

1,598 total views, no views today

अक्सर हम सुनते हैं कि धर्म खतरे में हैं | गली मोहल्लों से लेकर विश्वस्तर पर धर्म रक्षक बने लुच्चे लफंगों की सेनाएं तैनात हो रहीं हैं | हर किताबी रट्टामार धार्मिक इस बात पर बहुत ही गंभीरता से विश्वास करता है कि धर्म खतरे…

2,065 total views, 33 views today

दुनिया का कोई भी किताबी मजहब या धर्म अन्धविश्वास के विरुद्ध नहीं है | क्योंकि सभी धर्मों, मजहबों में एक अंधविश्वास बहुत प्रभावी है और वह है निराकार की उपासना | उस काल्पनिक ईश्वर की उपासना करना जिसे न किसी ने देखा, न जाना, न…

784 total views, no views today

“गुरू जी एक बात बताइये ?क्या उस स्थान का शुद्धिकरण करना उचित है, जहाँ हाल ही में कोई परिवार रह कर गया हो ? विशुद्ध चैतन्य जी, अगर उचित है तो फिर अगर में नेता हु तो मुझे भी शुद्धिकरण कराना चाहिए ? हाँ स्थान…

864 total views, no views today

 मैं शायद ऐसा व्यक्ति हूँ जो कभी किसी की समझ में नहीं सकता क्योंकि मैं अंधों की उस दुनिया में रहता हूँ जिसके लिए हाथी को समग्रता से देख व समझ पाना लगभग असंभव होता है | कोई हाथी को उसके पैर से जानता है…

517 total views, no views today

आपने सुना या देखा होगा कि जब भी कोई हिंसक घटना घटती है, फिर चाहे वह इस्लामिक या हिन्दू आतंकवादियों द्वारा घटित हो या दंगाइयों द्वारा या गौरक्षकों, संघी-बजरंगियों द्वारा | सभी धार्मिक अपने अपने सम्प्रदाय का बचाव करते हुए कहते मिलेंगे कि उनसे हमारे…

449 total views, no views today

धर्म की शिक्षा ही शायद विश्व की ऐसी शिक्षा है, जिसको देने और लेने वाले दोनों ही धर्म से अनभिज्ञ हैं | इसलिए सदियों में कभी-कभी ही कोई सूफी, कोई संत, कोई बुद्ध, कोई ओशो ही समझ पाते हैं धर्म को और समझाने का प्रयास…

984 total views, no views today

सनातनी होना वास्तव में बहुत ही कठिन है | यह इतना विराट भाव है, कि संकीर्ण मानसिकता की बुद्धि में नहीं समा पाता | लोगों को यह लगता है कि सनातन तो बिना नियम का कोई धर्म होगा और यदि कोई सनातनी हो जायेगा तो…

501 total views, no views today