इसीलिए आंबेडकर ने जो चाहा वह लिखा और थोप दिया भारत पर | बाकी सभी दरबारी आंबेडकर के सामने सर झुकाए खड़े रहे | शायद ये लोग यह मानते हैं कि आंबेडकर के शासनकाल में ब्राहमण वर्ग गुलाम होते थे और दलितों के घरों में झाडू पोंछा लगाते थे |

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/8fH5n

199 total views, 21 views today

कम से कम कोई एक ग्रन्थ तो ऐसा है भारत में जिसके दाह-संस्कार से दो परस्पर विरोधी एकमत होकर खुश होते हैं

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/Ok2SV

616 total views, 1 views today

दीर्घकाल से संन्यास शब्द अकर्मण्य लोगों की निष्क्रियता, निठल्लापन, पलायन, गैरजिम्मेदार जीवन-यापन, परावलंबन, पाखंड का प्रतीक बनकर रह गया है

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/uT2vt

713 total views, 1 views today

चारों तरफ हजारों लोग हैं और तुम उनका अनुसरण कर रहे हो। और इसी अनुसरण से तुम्हारे व्यक्तित्व का निर्माण हो रहा है। और इसी व्यक्तित्व को तुम अपनी आत्मा समझे हुए हो

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/kqSkT

183 total views, 2 views today

उन्होंने छुआ-छूत और ब्राहमण व शूद्रों के लिए अलग अलग बैठकर प्रसाद लेने की परम्परा बंद करवा दी और सभी को एक ही साथ बैठकर बिना कोई भेद-भाव प्रसाद लेने की परम्परा को लागू किया

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/NXsFK

486 total views, 1 views today

यह बात सभी को गाँठ बाँध लेनी चाहिए कि भारत विभिन्न मतों, मान्यताओं, संस्कारों, परम्पराओं, भाषाओँ, संस्कृतियों का देश है | कोई इस्लामिक, इसाई, या बौद्ध देशों की तरह एकल संस्कृति व भाषा का देश नहीं है

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/7gGZR

582 total views, 3 views today

अक्सर हम सुनते हैं कि धर्म खतरे में हैं | गली मोहल्लों से लेकर विश्वस्तर पर धर्म रक्षक बने लुच्चे लफंगों की सेनाएं तैनात हो रहीं हैं | हर किताबी रट्टामार धार्मिक इस बात पर बहुत ही गंभीरता से विश्वास करता है कि धर्म खतरे…

The short URL of this article is: https://www.vishuddhablog.com/6a8xL

2,036 total views, 1 views today