रिलीजन कभी भी धर्म नहीं हो सकता

रिलीजन कभी भी धर्म नहीं हो सकता, क्योंकि प्रत्येक रिलीजन में भले और बुरे लोग होते हैं | रिलिजन केवल

विशुद्ध सनातनी

सभी मत-मान्यताओं, कर्मकांडों, रहन-सहन, ईष्टों और आराध्यों से मिलकर जो धर्म बना वही हिन्दू धर्म कहलाया और सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड जिन

एक अविस्मर्णीय यात्रा थाईलैंड की

थाईलैंड का नागरिक भारतीय संस्कृति को धरोहर के रूप में नहीं सजा कर रखा, बल्कि आज भी अपने दैनिक जीवन

क्या राममंदिर/बाबरी मस्जिद आपको रोजगार दिला सकता है ?

मैं राम या किसी भी मंदिर, मस्जिद का विरोधी नहीं हूँ । मैं तो चाहता हूँ कि मंदिरों का निर्माण,

धर्म खतरे में पड़ता है जब…

सदैव स्मरण रखें: यदि सारे हिन्दू मुसलमान हो जाएँ या सारे मुसलमान हिन्दू हो जाएँ, तब भी धर्म खतरे में

Beauty of nature

विविधता में विद्यमान है सनातन धर्म

स्वार्थी लोगों की जेब से पैसे ऐंठने के लिए मंदिर से बेहतर कोई और उपाय शायद नहीं दिखता इन धर्मों

भारत एक सनातनधर्मी राष्ट्र था, है और रहेगा

सनातनी या धर्म निरपेक्ष होने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि साम्प्रदायिकता को यहाँ स्वीकार नहीं किया जायेगा |

ऐसा क्या चमत्कार हो गया कि खुश हुआ जाए ?

देश को साम्प्रदायिकता की आग में झोंकने वाले, दिमाग से पैदल, विकृत मानसिकता के लोगों की हार हुई<div class='shorten_url'>